पुलिस अधिकारी ने चुराए बुलेट के टायर, निलंबित कर किया गिरफ्तार- Jagran news

172

जागरण प्लस न्यूज़। सामान्य तौर पर पुलिस चोरी के आरोपियों को गिरफ्तार करके उन्हें जेल भेज देती हैं। लेकिन हरियाणा के पानीपत में तैनात एक सहायक पुलिस इंस्पेक्टर महज मोटरसाइकिल के टायर चुराने के मामले में सलाखों के पीछे पहुंच गया है।


पानीपत न्यू पुलिस लाइन में तैनात मालखाना गार्ड इंचार्ज एसआई फूल कुमार ने 21 मई को पानीपत उप पुलिस अधीक्षक (ट्रैफिक) को दी गई एक शिकायत में कहा था कि न्यू पुलिस लाइन में जब्त की गई एक बुलेट बाइक के दोनों टायर चुरा लिए गए हैं। जांच में पता चला कि बाइक के टायर किसी और ने नहीं बल्कि उसी पुलिस लाइन में तैनात एसआई फतेह सिंह ने चुराए थे।

जब मामले की जांच कर रहे फूल कुमार ने फतेह सिंह से पूछा तो उसने स्वीकार किया कि टायर उसने ही चुराए हैं क्योंकि जिस मोटरसाइकिल से टायर निकाले गए नियमानुसार उसकी नीलामी हो चुकी थी। लेकिन फतेह सिंह यह भूल गया कि दूसरी तरफ से उसकी कॉल रिकॉर्ड की जा रही थी। वह कॉल पर यहां तक कह गया कि अगर कोई पूछे तो मेरा नाम ले देना कि टायर मैंने उतारे हैं।

जांच अधिकारी ने जब फतेह सिंह की कॉल का ऑडियो वरिष्ठ अधिकारियों को सुनाया तो उन्होंने तुरंत इस चोर पुलिस वाले के खिलाफ कार्रवाई करने के आदेश दिए।

पानीपत के सेक्टर 29 के थानेदार सुनील कुमार ने एसआई फतेह सिंह की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए बताया कि उच्च अधिकारियों के आदेश पर आरोपी एएसआई फतेह सिंह के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। दोषी पाए जाने के बाद उसे गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया है।

फतेह सिंह 6 महीने पहले ही पानीपत न्यू पुलिस लाइन में तैनात किया गया था। वह इससे पहले मेवात जिले में तैनात था। आरोपी फतेह सिंह के खिलाफ विभागीय जांच चल रही है और उसे निलंबित कर दिया गया है। टायर चोरी के इस मामले की जांच कर रहे एसआई फूल कुमार की खूब तारीफ हो रही है क्योंकि उसने ईमानदारी दिखाते हुए अपने साथी को भी नहीं बख्शा। वह चाहता तो टायर बरामद करके फतेह सिंह को जेल जाने से बचा सकता था।

सामान्य तौर पर पुलिस वाले एक दूसरे के अपराधों पर पर्दा डालने में लगे रहते हैं। इस मामले से यह बात भी खुलकर सामने आई है कि पुलिस कर्मचारी जब्त किए गए वाहनों के कलपुर्जे चुराकर किस तरह मौज लूटते हैं। कई मामलों में तो पुलिस कर्मचारी जब्त किए गए वाहनों का इस्तेमाल करते भी देखे गए हैं।