प्रदेश में पशुओं के टीकाकरण को निशुल्क करने हेतु सौंपा ज्ञापन👉🏼

359

राजस्थान प्रदेश सरकार ने ‘मुख्यमंत्री निशुल्क पशुधन आरोग्य दवा योजना’ के अंतर्गत पशुओं को निशुल्क दवा उपलब्ध करवाकर किसानों एंव पशुपालकों को बड़ी राहत प्रदान की है। परन्तु पशुओं को गम्भीर रोगों से बचाव हेतु लगाऐं जाने वाले टीकों (गलधोटू, लंगड़ा, बुखार, खुरपका मुहपका, पीपीआर,) आदी का पशुपालन विभाग द्वारा निर्धारित दरों के अनुसार पशुपालकों से शुल्क लिया जाता है।
वर्तमान में राजस्थान प्रदेश सहित अन्य राज्यों में भी राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम अंतर्गत खुरपका मुहपका रोग के उन्मूलन के लिए ‘एफ.एम.डी सीपी’ प्रोग्राम के अंतर्गत पशुओं में अनिवार्य रूप से टीकाकरण किया जाना है। यह कार्यक्रम पुर्णत: केन्द्र सरकार द्वारा वित पोषित है।
परन्तु अन्य राज्यों में यह टीका पशुओं को निशुल्क लगाया जाता है लेकिन राजस्थान में पशु पंजीकरण के नाम पर प्रति पशु दो रुपए राशि पशुपालकों से वसूली जा रही है।
कोरोनाकाल में पशुपालकों की आर्थिक स्थिति भी कमजोर है। वर्तमान में कई इलाके अतिवृष्टि की चपेट में हैं। जिससे पशुओं में मौसमी बिमारियों के फैलने का खतरा है
इन सबके मध्यनजर राजस्थान पशु चिकित्सा कर्मचारी संघ के प्रदेश नेतृत्व के निर्देशन में सोशल मीडिया प्रभारी संजय कुमार सैनी ने खुरपका मुहपका रोग के टीको को निशुल्क कर प्रदेश के पशुपालकों को राहत पहुंचाने के लिए राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के जयपुर ग्रामीण जिला उपाध्यक्ष प्रकाश सैनी (कोटपुतली) को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।