शेष बचे निकाय और जिला परिषद एवं पंचायत समिति के चुनावों की घोषणा दीपावली के बाद कभी भी

386

पंचायत समिति सदस्य, जिला परिषद सदस्य, प्रधान और जिला प्रमुख के चुनावों के लिए 20 नवंबर के आसपास चुनाव कार्यक्रम जारी करते हुए लग सकती है आचार संहिता
राज्य निर्वाचन आयोग जुटा तैयारी में
6 से 8 चरण में कराए जाएंगे चुनाव

जागरण प्लस। प्रदेश में तीन बड़े शहर जयपुर, जोधपुर और कोटा में होने जा रहे नगर निगम चुनावों के बाद शेष निकाय और जिला परिषद एवं पंचायत समिति के चुनाव कराए जाएंगे। माना जा रहा है कि दीपावली के बाद पंचायत समिति सदस्य, जिला परिषद सदस्य, प्रधान और जिला प्रमुख के चुनावों के लिए आचार संहिता लगाते हुए कार्यक्रम जारी किया जा सकता है। जानकारों की मानें तो 20 नवंबर के आसपास उक्त चुनावों की तारीखों का ऐलान हो सकता है। राज्य निर्वाचन आयोग इसकी तैयारी में जुट गया है। माना जा रहा है कि यह चुनाव 6 से 8 चरण में कराए जाएंगे। ऐसा इसलिए कि पिछली बार सामान्य परिस्थिति में ही आयोग को तीन चरण में चुनाव कराने पड़े थे तो इस बार कोरोना की वजह से आयोग के समक्ष असामान्य परिस्थिति हैं।

दरअसल कोरोना के बढ़ते प्रकोप से मतदाताओं को बचाने के लिए निर्वाचन आयोग ने इस बार मतदान केन्द्रों की संख्या में अप्रत्याशित बढ़ोतरी करने का फैसला किया है। गत चुनाव में 11 सौ मतदाताओं पर एक मतदान केन्द्र बनाया गया। नतीजतन करीब साढ़े 36 हजार मतदान केन्द्र खोले गए. इस बार कोरोना की वजह से प्रत्येक केन्द्र पर मतदाताओं की संख्या घटाकर 850 से 900 की गई है। इसकी वजह से करीब 50 से 55 हजार मतदान केन्द्र खोलने पड़ेंगे। ऐसे में प्रत्येक मतदान की सुरक्षा के लिए पुलिस कर्मियों को भी बड़ी संख्या में तैनात करना पड़ेगा।

बता दें, राज्य में पुलिस नफरी पहले ही सीमित है। ऐसे में गृह विभाग और पुलिस मुख्यालय के अधिकारियों ने निर्वाचन विभाग को एक साथ की बजाय चरणों में चुनाव कराने का सुझाव दिया है। सभी विभागों में आपसी चर्चा के बाद चरणबद्ध चुनावों पर सहमति बन चुकी है। आयोग ने सभी जिला कलक्टर्स को पत्र लिखकर चुनावी तैयारी करने के निर्देश दिए हैं।

जिला परिषद और पंचायत समिति सदस्यों के लिए मतदान एक ही दिन होगा। प्रत्येक मतदाता एक वोट पंचायत समिति और एक वोट जिला परिषद सदस्य को दे सकेगा। आपको बता दें की प्रदेश में पंचायत समिति सदस्यों के कुल 7029, पंचायत समिति प्रधान के 352, पंचायत समिति उप प्रधान के 352 पदों पर चुनाव होंगे। ऐसे ही जिला परिषद सदस्य के कुल 1014, जिला प्रमुख के 33, उप जिला प्रमुख के 33 पदों के लिए चुनाव होंगे।

गौरतलब है कि, पंचायत समिति और जिला परिषद सदस्यों का कार्यकाल इस साल फरवरी में पूरा हो चुका है। आयोग ज्यों ही इनके चुनाव की तैयारी में जुटा, त्यों ही कोरोना महामारी फैल गई। नतीजतन चुनाव स्थगित करने का निर्णय किया गया। हाल में ग्राम पंचायतों के चुनाव कराए गए हैं। तीन बड़े शहरों के 6 नगर निगमों के चुनाव प्रक्रियाधीन हैं। इनकी चुनाव प्रक्रिया 11 अक्टूबर को खत्म हो जाएगी। इस प्रकार दीपावली के बाद जिला परिषद और पंचायत समिति सदस्यों के चुनाव कराए जाएंगे।